Sunday, 19 April 2015

~**मेरी पहली ग़ज़ल~'ख़ुद से इतना प्यार न कर'**~

ख़्वाबों को अख़बार न कर
ख़ुद से इतना प्यार न कर।

ये जीवन इक बाज़ी है
रिश्तों को हथियार न कर।

महँगी माना खुशियाँ हैं
अश्कों का व्यापार न कर।

फूल मिलें जब राहों में
काँटों को बेज़ार न कर ।  

अरमानों की महफ़िल में
ग़म का तू इज़हार न कर ।

लेकर बातों के ख़ंजर
अपनों पर तू वार न कर।

 साँस-किराया देता चल
कम-ज़्यादा तक़रार न कर।

14 comments:

  1. बेहद सुन्दर व उम्दा गजल।

    ReplyDelete
  2. बेहतरी गज़ल एक एक शब्द अपनी कहानी कहता हुआ
    आभार

    ReplyDelete
  3. बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल..

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  5. फूल मिलें जब राहों में
    काँटों को बेज़ार न कर ।
    बेहतरीन .....

    ReplyDelete
  6. बहुत उम्दा शेर ग़ज़ल के ... हकीकत के करीब ...

    ReplyDelete
  7. Very nice post.. & welcome to my new blog post

    ReplyDelete
  8. सच बयाँ करती उम्दा ग़ज़ल .....बधाई स्वीकारें |

    ReplyDelete
  9. सच बयाँ करती उम्दा ग़ज़ल .....बधाई स्वीकारें |

    ReplyDelete
  10. सुन्दर ग़ज़ल

    ReplyDelete
  11. सुन्दर व सार्थक प्रस्तुति..
    शुभकामनाएँ।
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  12. एक -एक शब्द हृदयस्पर्शी !!

    ReplyDelete
  13. Looking to publish Online Books, in Ebook and paperback version, publish book with best
    self book publisher india|Ebook Publishing company in India

    ReplyDelete