Friday, 10 May 2013

**~ऊन के गोले जैसी.... "माँ " ~**



                          सतरंगी ऊन के गोले जैसी ...
                          नर्म, मुलायम ..प्रेम-पगी ...,
                        समेटे सब को , लिपटाए खुद में,
                        कोमल स्पर्श...सहलाती माँ !

                          सहनशीलता और धैर्य की...
                          नुकीली तेज़ सलाईयों पर...
                        एक-एक क़दम बढाती हुई ...
                       सपने बच्चों के बुनती माँ !

                       सीधा-उल्टा , उल्टा-सीधा ..
                      कभी सीधा-सीधा, उल्टा-उल्टा...,
                      रातों को भी जाग-जाग कर ...
                     उँगली, कमर... कस, चलती माँ !

                    चुस्त हाथ ... बारीक़ नज़र से...
                  सपनों का आकार... सजाती माँ !
                     गिरा फंदा उठाने ख़ातिर ...
                  कभी उल्टे पाँव भी चलती माँ !
                        गाँठ ग़र आती  ...
                 उधेड़ बुनाई ... नये सिरे से ...
                   फिर सपने चढ़ाती माँ !

               प्यार, दुलार ,सेवा ,ममता ...
               अनुशासन के हर पल्ले पर ...,
               जैसे जैसे जीवन बढ़ता ...
                 जोड़-घटाने करती माँ !

                 समय बढ़ता, बढ़ते बच्चे ,
                 सपनों का भी रंग निखरता !
                नेह-धागे से पिरो... सँवारती ...
               बच्चों का तन-मन भरमाती माँ !

                रहे ना कोई सपना अधूरा..
               बुरी नज़र ना लगे किसी की ...,
              आख़िरी टाँका चूम होठों से....
             अपने दाँतों से काटती माँ !

              यूँ हर पल.. बढ़ते सपने उसके ...
             निकल हाथों से ... होते साकार !

              वो निहारती ,वो इतराती,
             बाँहों में उनको भरना चाहती ...!
       अफ़सोस मगर ! वो भूल ही जाती ...
         'सपने बुनते-बुनते गुम गया ...
        ऊन का तो वजूद ही घुल गया ...!'
        रह गयी बनकर एक धागा पतला ...
           बंद डिब्बे में... सिकुड़ा -सिमटा ...!

       उत्साह...पर उसका... न हल्का होता... 
       निग़ाह सपनों से कभी ना हटती !
        जब भी होता ... कोई सपना आहत ....
          धागे से मलहम बन जाती ...
      टूटा सपना फिर-फिर  ...जोड़ती ...!
     बिन पैबंद ...बस.. मुस्काती माँ !

          सपनों में अपना जीवन बुन कर ....
        दुआ बन सदा महकती  माँ ...!

39 comments:

  1. बहुत बहुत सुन्दर.....
    रहे ना कोई सपना अधूरा..
    बुरी नज़र ना लगे किसी की ...,
    आख़िरी टाँका चूम होठों से....
    अपने दाँतों से काटती माँ !
    शुभकामनाएं अनिता....
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  2. सहनशीलता और धैर्य की...
    नुकीली तेज़ सलाईयों पर...
    एक-एक क़दम बढाती हुई ...
    सपने बच्चों के बुनती माँ !
    VERY TRUE

    ReplyDelete
  3. ma ki zindgi ka ak sahi dastavez, marmsparshi

    ReplyDelete


  4. सपनों में अपना जीवन बुन कर ....
    दुआ बन सदा महकती माँ ... सच
    माँ तो माँ है माँ के जैसा कोई नहीं ....

    ReplyDelete
  5. माँ का हृदय सागर से भी विशाल और गहरा होता है । ऐसी मार्मिक रचना अनुभूति की आँच से पककर निकले तो समझो वह हृदय भी माँ का ही है।आपकी यह कविता दिल को छू गई । अनिता जी बहुत बधाई !ये पक्तिया सचमुच में मर्मस्पर्शी हैं -रहे ना कोई सपना अधूरा..
    बुरी नज़र ना लगे किसी की ...,
    आख़िरी टाँका चूम होठों से....
    अपने दाँतों से काटती माँ !

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(11-5-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका आभार वंदना जी !
      ~सादर!!!

      Delete
  7. रहे ना कोई सपना अधूरा..
    बुरी नज़र ना लगे किसी की ...,
    आख़िरी टाँका चूम होठों से....
    अपने दाँतों से काटती माँ !

    मां जीती जागती इंसान होते हुये भी एक ऐसा कोमल मधुर एहसास है जिसे हर व्यक्ति महसूस करता है. इस मां रूपी एहसास को शब्दों में अभिब्यक्त करने की एक खूबसूरत कोशीश, बहुत ही हृदयस्पर्षि भाव, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. बहुत ही अच्छी कविता |

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर रचना ..... माँ के लिए यह बिम्ब बहुत सुंदर लगा ।

    ReplyDelete
  10. उत्साह...पर उसका... न हल्का होता...
    निग़ाह सपनों से कभी ना हटती !
    जब भी होता ... कोई सपना आहत ....
    धागे से मलहम बन जाती ...
    टूटा सपना फिर-फिर ...जोड़ती ...!
    बिन पैबंद ...बस.. मुस्काती माँ !

    सपनों में अपना जीवन बुन कर ....
    दुआ बन सदा महकती माँ ...!

    हम सब अपनी माँ से वो सब कुछ पते हैं जिसे हम मन में एक बार सोच लेते हैं

    ReplyDelete
  11. bahut sundar,,,, Maa Jaisa koi nhi ....
    सपनों में अपना जीवन बुन कर ....
    दुआ बन सदा महकती माँ ...!

    ReplyDelete
  12. आप सभी गुणी जनों के स्नेहयुक्त प्रोत्साहन का हार्दिक धन्यवाद व आभार !:-)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  13. टूटा सपना फिर-फिर ...जोड़ती ...!
    बिन पैबंद ...बस.. मुस्काती माँ !.........बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  14. ब्लॉग बुलेटिन के माँ दिवस विशेषांक माँ संवेदना है - वन्दे-मातरम् - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  15. माँ को श्रद्धेय नमन।

    सादर

    ReplyDelete
  16. सहनशीलता और धैर्य की...
    नुकीली तेज़ सलाईयों पर...
    एक-एक क़दम बढाती हुई ...
    सपने बच्चों के बुनती माँ !



    waah ....

    ReplyDelete
  17. प्यार, दुलार ,सेवा ,ममता ...
    अनुशासन के हर पल्ले पर ...,
    जैसे जैसे जीवन बढ़ता ...
    जोड़-घटाने करती माँ !..

    माँ किसी कुम्हार की तरह कच्चे घड़े को आकार देती है ... जीवन सवारती है ...

    ReplyDelete
  18. सुन्दर बिम्ब । भावपूर्ण कविता ।

    ReplyDelete
  19. क्या कहूँ ....अनीता!
    बहुत सारा स्नेह !

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर नीतू...माँ पर पढ़ी ...चुनिन्दा कविताओं में से एक ....बहुत सुन्दर बिम्ब...

    ReplyDelete
  21. जबसे चली गयी है वो,
    हर लम्हा याद आती माँ!!
    आशीष
    --
    थर्टीन एक्सप्रेशंस ऑफ़ लव!!!

    ReplyDelete
  22. उत्साह...पर उसका... न हल्का होता...
    निग़ाह सपनों से कभी ना हटती !
    जब भी होता ... कोई सपना आहत ....
    धागे से मलहम बन जाती ...
    टूटा सपना फिर-फिर ...जोड़ती ...!
    बिन पैबंद ...बस.. मुस्काती माँ !
    ईश्वर के बाद माँ की ही स्तुति की जाती है इतनी .बढ़िया भाव उदगार .

    उत्साह...पर उसका... न हल्का होता...
    निग़ाह सपनों से कभी ना हटती !
    जब भी होता ... कोई सपना आहत ....
    धागे से मलहम बन जाती ...
    टूटा सपना फिर-फिर ...जोड़ती ...!
    बिन पैबंद ...बस.. मुस्काती माँ !

    माँ शिव की मानिंद गुण वाचक नाम है जो सदा बच्चों की निगरानी रखती ,जेड सिक्युरिटी देती है ताउम्र .बढ़िया पोस्ट .परफेक्शन चाहती माँ को समर्पित .

    ReplyDelete

  23. चुस्त हाथ ... बारीक़ नज़र से...
    सपनों का आकार... सजाती माँ !
    गिरा फंदा उठाने ख़ातिर ...
    कभी उल्टे पाँव भी चलती माँ !
    गाँठ ग़र आती ...
    उधेड़ बुनाई ... नये सिरे से ...
    फिर सपने चढ़ाती माँ !--------
    क्या गूँथ दिया है माँ को आपने जीवन में
    अदभुत भावपूर्ण रचना
    बधाई

    आग्रह है मेरे ब्लॉग में सम्मलित हों "उम्मीद तो हरी है"
    http://jyoti-khare.blogspot.in

    ReplyDelete
  24. आप सभी के प्रोत्साहन भरे शब्दों का हार्दिक धन्यवाद व आभार !:-)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  25. हृदयस्पर्शी भाव.....

    ReplyDelete
  26. सपने बुनना और उन्हें सहेजना माँ ही सिखाती है. भावमयी प्रस्तुति मात्र दिवस पर.

    ReplyDelete
  27. अफ़सोस मगर ! वो भूल ही जाती ...
    'सपने बुनते-बुनते गुम गया ...
    ऊन का तो वजूद ही घुल गया ...!'
    रह गयी बनकर एक धागा पतला ...
    बंद डिब्बे में... सिकुड़ा -सिमटा ...!

    bahut khoob likha hai apne .....badhai Anita ji

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुंदर पंक्तिया
      कृपया अपने विचार शेयर करें।
      http://authorehsaas.blogspot.in/
      कृपया अपने विचार शेयर करें।

      Delete
  28. सुंदर पंक्तिया
    कृपया अपने विचार शेयर करें।
    http://authorehsaas.blogspot.in/
    कृपया अपने विचार शेयर करें।

    ReplyDelete
  29. जब भी होता ... कोई सपना आहत ....
    धागे से मलहम बन जाती ...
    टूटा सपना फिर-फिर ...जोड़ती ...!
    बिन पैबंद ...बस.. मुस्काती माँ !

    ...मन को छूती बहुत भावपूर्ण रचना...बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  30. मर्मस्पर्शी रचना भावों को सहलाती दुलराती माँ की लोरी सी ....शुक्रिया आपकी टिपण्णी के लिए .

    ReplyDelete
  31. बहुत भावपूर्ण रचना!!

    ReplyDelete
  32. ek bahut bahut khoobsurat rachna...ek khoobsurat vayktitva ke liye...!!

    ReplyDelete
  33. बहुत अच्छी प्रस्तुति....बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  34. सराहना व प्रोत्साहन के लिए आप सभी का दिल से आभार..!:-)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  35. बहुत सुंदर मातृवंदना.... धन्यवाद---

    ReplyDelete
  36. मर्मस्पर्शी कविता :)

    ReplyDelete