Friday, 24 May 2013

**~मैं करूँ तो क्या ? ~ क्षणिकाएँ **




१.

अनजाने में ही सही....
तुमने ही खड़े किए बाँध... अना के....
वरना..... मेरी फ़ितरत तो पानी -सी थी....!

२.

हाथ उठाकर दुआओं में...
तेरी खुशियाँ माँगी थी मैनें...
नहीं जानती थी....
मेरे हाथों की लक़ीरों से ही निकल जाएगा तू...!

३.

तुमसे जुदा हुई....
तो कुछ मर गया था मुझमें...
जो मर गया था....
उसमें ज़िंदा तुम आज भी हो.....!

४.

ए खुदा मेरे ! मैं करूँ तो क्या ?
ग़मज़दा हूँ मैं... ना-शुक़्र नहीं...
एक हाथ में काँच सी नेमतें तेरी...
दूजे में पत्थर दुनिया के.....
दुनिया को उसका अक़्स दिखा...
या मुझको ही कर दे पत्थर....!

37 comments:

  1. जो मर गया था....
    उसमें ज़िंदा तुम आज भी हो.....!
    आह .! मन को छूते भाव ....

    सभी एक से बढ़कर एक क्षणिकाएँ
    आभार

    ReplyDelete
  2. वाह....
    लाजवाब क्षणिकाएं...
    तीसरी तो दिल को चीर गयी....
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  3. kamaal likha hai...so touchy!

    ReplyDelete
  4. हर क्षणिका गजब की ......अना की दीवार हो या फिर हाथ की लकीर या फिर ज़िंदा होने का खयाल .... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  5. बहुत गहरीं , पहली तीन लाजबाब लगीं.

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(25-5-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  7. गहरीं क्षणिकाएँ बहुत खूब

    ReplyDelete
  8. तुमसे जुदा हुई....
    तो कुछ मर गया था मुझमें...
    जो मर गया था....
    उसमें ज़िंदा तुम आज भी हो.....!

    बहुत ही गहन और मार्मिक अर्थ लिये हुये सशक्त रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. आप सभी की सराहना व प्रोत्साहन का तहे दिल से धन्यवाद!:-)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  10. वाह! वाह! अनीता (जी)...
    हर एक क्षणिका अपने आप में एक पूरी दास्ताँ समेटे हुए है ...कहने को शब्द नही ...
    बस अहसास करने को सब कुछ ....बहुत खूब .सुंदर.दर्द और ज़ज्बातों से भरपूर !
    पर फिर भी अपनी पसंद ज़रूर कहूँगा नम्बर ५ ने दिल ली बात बयाँ कर दी !
    सदा खुश और स्वस्थ रहें ........

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत-बहुत शुक्रिया अशोक सर!:-)
      बस... आप हमारे नाम के आगे जी मत लगाइए...-आप भूल गये शायद...:-)
      ~सादर!!!

      Delete
  11. तुमसे जुदा हुई....
    तो कुछ मर गया था मुझमें...
    जो मर गया था....
    उसमें ज़िंदा तुम आज भी हो.....!-------

    मन में बसे प्रेम की गजब की अनुभूति
    सुंदर क्षणिकायें
    बधाई

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति .मन को छू गयी .आभार . कुपोषण और आमिर खान -बाँट रहे अधूरा ज्ञान
    साथ ही जानिए संपत्ति के अधिकार का इतिहास संपत्ति का अधिकार -3महिलाओं के लिए अनोखी शुरुआत आज ही जुड़ेंWOMAN ABOUT MAN

    ReplyDelete
  13. waah satya ko shabdon me badi khoobsurti se ukera hai ....

    ReplyDelete
  14. आदरेया आपकी ये कलापूर्ण क्षणिकाएं निर्झर टाइम्स पर 'विधाओं की बहार...' में संकलित की गई है।
    कृपया http://nirjhar.times.blogspot.com पर अवलोकन करें।आपकी प्रतिक्रिया सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
  15. अति सुन्दर क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  16. बेहद सशक्त भाव कणिकाएं ...ॐ शान्ति .

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर रचना
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  18. दिल को छू गई सुप्रभात
    निःशब्द करती अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  19. मन को छू गयी यह भावनात्मक अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  20. wah, bahut hee sundar! Badhai.

    ReplyDelete
  21. मन को छू के गुज़र जाते हैं सभी भावमय क्षणिकाएं ...
    उम्दा ...

    ReplyDelete
  22. ए खुदा मेरे ! मैं करूँ तो क्या ?
    ग़मज़दा हूँ मैं... ना-शुक़्र नहीं...
    एक हाथ में काँच सी नेमतें तेरी...
    दूजे में पत्थर दुनिया के.....
    दुनिया को उसका अक़्स दिखा...
    या मुझको ही कर दे पत्थर....!

    बहुत खूब लिखा है आपने...बधाई हो!
    सादर/सप्रेम
    सारिका मुकेश

    ReplyDelete
  23. बेहतरीन...
    दुनिया को उसका अक़्स दिखा...
    या मुझको ही कर दे पत्थर....!

    सभी क्षणिकाएँ बहुत भावपूर्ण, बधाई.

    ReplyDelete
  24. तुमसे जुदा हुई....
    तो कुछ मर गया था मुझमें...
    जो मर गया था....
    उसमें ज़िंदा तुम आज भी हो.....!

    क्या बात है!!!
    ढ़
    --
    थर्टीन ट्रैवल स्टोरीज़!!!

    ReplyDelete
  25. तुमसे जुदा हुई....
    तो कुछ मर गया था मुझमें...
    जो मर गया था....
    उसमें ज़िंदा तुम आज भी हो.....!

    क्या बात है!!!
    ढ़
    --
    थर्टीन ट्रैवल स्टोरीज़!!!

    ReplyDelete
  26. Anita Ma'am liked ur writings quite thoughtful...:):)

    ReplyDelete
  27. काव्यालय में मैनें आपकी पोस्ट क्षणिकाएँ देखी तो आपका ब्लाग देखने का मन हुआ। और ब्लाग देखकर समय का सदुपयोग हुआ ये आभास हुआ। मैनें बहुत दोस्तों के ब्लाग देखे हैं ज्यादातर लोगों के ब्लाग पर मन की अभिव्यक्ति न होकर अपने प्रचार के लिये हों ऐसा लगता है। आज आपका ब्लाग देखा तो बहुत अच्छा लगा एकदम अलग और जमीनी (down to earth) लगा मुझे।

    ReplyDelete
  28. Anita Aania ; बहुत सुंदर कव्य्गुच्छ. हर क्षणिका में कमाल का काम हुआ है. सराहनीय काव्य प्रकार. धन्यवाद-

    ReplyDelete
  29. kafi samy pashchat blog pe aya - aur har samy ki trha behtrin padhne ko mila

    Dhanywad

    ReplyDelete
  30. भावनात्मक अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete