Sunday, 11 November 2012

**~ "शुभ दीपावली " ~**



आज चाँद दीपक के उजालों से डर गया देखो,
इल्ज़ाम फिर... रात के सिर धर गया देखो !

हसरतें महक उठीं, आरज़ुएँ फिर जी उठीं दिल में,
हर आहट पर खिली... रंगोली गयी निखर देखो !

हर दीप जैसे तकता हो किसी की राह जगकर,
दिल में उठने लगी... खुशियों की थिरकती लहर देखो ..!

दीपावली का त्योहार संग लाता पैगाम खुशियों के,
दीप, फुलझड़ी, पकवान से भरता... दिलों में मुस्कान देखो !

दीपों की लड़ियों में चमकें आशा की मुस्काती किरणें,
पूजा की थाली में सजे... विश्वास के कुंकुमी मंज़र देखो...!

20 comments:

  1. bahut khoob anita ji........................आज चाँद दीपक के उजालों से डर गया देखो,
    इल्ज़ाम फिर... रात के सिर धर गया देखो !

    ReplyDelete
  2. behatareen....दीपों की लड़ियों में चमकें आशा की मुस्काती किरणें,
    पूजा की थाली में सजे... विश्वास के कुंकुमी मंज़र देखो...!

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद मधु जी !:)
      आपको व आपके परिवार को भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ !:)
      ~सादर

      Delete
    2. ला जवाब अनीता जी।।बेहतरीन शेयरिंग .

      दिवाली की बहुत बहुत शुभकामनाएं
      ...

      Delete
  4. dip ki takat ko apane sudar dhang se piriya hai, dipawali ki dher sari shubhkamanaye.

    ReplyDelete
  5. चाँद डर गया देखो .... बहुत सुंदर ....अमावस के लिए बहुत सुंदर बिम्ब लगा ...

    दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी कविता..... ....दिवाली की हार्दिक शुभकामनाये
    इंटरनेट से भारी डाटा भेजने का आसन तरीका

    ReplyDelete
  7. बिखेरती रचना ....
    दीपों के इस शुभ पर्व में मेरी शुभकामना है कि जिस सम्मान की रौशनी के आप अधिकारी हैं,
    वह सम्मानित उजाला आपके साथ रहे और यही माँ लक्ष्मी का सही आगमन है और उनकी मुस्कान है ...
    उनके पदचिन्ह आपको हमेशा सुख समृद्धि दें
    स्नेहिल शुभकामनाओं की जगमगाहट सहित

    ReplyDelete
  8. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति
    मन के सुन्दर दीप जलाओ******प्रेम रस मे भीग भीग जाओ******हर चेहरे पर नूर खिलाओ******किसी की मासूमियत बचाओ******प्रेम की इक अलख जगाओ******बस यूँ सब दीवाली मनाओ

    ReplyDelete
  9. धनतेरस और दीपावली की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  10. दीपावली पर्व के अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    त्यौहारों की शृंखला में धनतेरस, दीपावली, गोवर्धनपूजा और भाईदूज का हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  12. हर दीप जैसे तकता हो किसी की राह जगकर,
    ये पंक्ति विशेष पसंद आयी |
    दीपावली की सपरिवार शुभकामनाएं |

    सादर

    ReplyDelete
  13. शानदार , लाजवाब | उजालों के त्यौहार की बधाईयाँ |

    ReplyDelete
  14. आप सभी गुणी जनों का हार्दिक धन्यवाद व आभार !:-)
    "आपको व आपके परिवार और प्रियजनों को दीपावली की ढेरों शुभकामनाएँ !" :-)
    ~सादर !

    ReplyDelete
  15. बहुत अद्भुत अहसास...सुन्दर प्रस्तुति ..आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये. मधुर भाव लिये भावुक करती रचना,,,,,,
    ...

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये आपको और आपके समस्त पारिवारिक जनो को !

    मंगलमय हो आपको दीपो का त्यौहार
    जीवन में आती रहे पल पल नयी बहार
    ईश्वर से हम कर रहे हर पल यही पुकार
    लक्ष्मी की कृपा रहे भरा रहे घर द्वार..

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद व आभार मदन मोहन सक्सेना जी !:)
      ~सादर !

      Delete


  16. सुंदर रचना !

    बनी रहे त्यौंहारों की ख़ुशियां हमेशा हमेशा…

    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    ♥~*~दीपावली की मंगलकामनाएं !~*~♥
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान
    लक्ष्मी बरसाएं कृपा, मिले स्नेह सम्मान

    **♥**♥**♥**●राजेन्द्र स्वर्णकार●**♥**♥**♥**
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद व आभार Rajendra Swarnkaar ji !:)
      ~सादर !

      Delete