Tuesday, 8 May 2012


ज़िंदगी के हर लम्हे को बूँद बूँद चखा हमने....
मिस्री की डली कुछ ... घुलते रहे...
कुछ नीम कसैले.....गटक गये ......

3 comments: