Wednesday, 8 March 2017

~** मैं एक स्त्री हूँ! **~

भावनाओं में सिमटी ;
भावनाओं से लिपटी ;
भावनाओं की गीली मिट्टी से
गुँधी हुई हूँ !
भावनाओं में ही -
बसती हूँ, बहती हूँ;
जीती हूँ, मरती हूँ;
बनती हूँ, बिखरती हूँ;
भीगती हूँ, सूखती हूँ !
कभी भीगने की आस में
सूखती जाती हूँ;
कभी सूखने की आस में
सीलती जाती हूँ !
भावनाओं की नमी ने ही
जोड़ रखा है मुझे -
तुमसे, अपने आप से -
हरेक शय से !
भावनाएँ न हों –
तो तुम कौन और मैं कौन ?
तुम कहते हो -
मैं पागल हूँ !
मैं कहती हूँ -
मैं एक स्त्री हूँ  !!!

         ~ अनिता ललित 


11 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 09 मार्च 2017 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. भावनाओं की नमी ने ही जोड़ रखा है हमें. तुमसे, आपसे।।।

    वाह, क्या बात कही आपने।

    ReplyDelete
  4. भावनाओं की गीली मिट्टी से
    गुँधी हुई हूँ !
    भावनाओं में ही -
    बसती हूँ, बहती हूँ;

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचना......

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. भावनाओं की गीली मिट्टी से
    गुँधी हुई हूँ !
    भावनाओं में ही -
    बसती हूँ, बहती हूँ;

    ReplyDelete
  8. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  9. बहुत ख़ूब ... नारी हाई तो प्रतीक है भावनाओं की ...गहरे भाव ...सुंदर रचना ...

    ReplyDelete
  10. बहुत खूब अनीता जी... नारी के अलावा कौन समझ सका है भावनाओ को...

    ReplyDelete