Monday, 25 November 2013

**~'दीपशिखा सी....~** -चोका

दीपशिखा सी
जलती हरदम
तेरे आँगन
कुछ यूँ सुलगती
मैं पिघलती
अंदर ही अंदर!
आँसू में डूबे  
अरमान जलते
और फैलता 
उदासी का उजाला
तन्हाई ओढ़े!
सुलगते जो ख़्वाब,
सभी हो जाते
ख़ामोश, धुआँ-धुआँ
भीगता वो आँगन!

19 comments:

  1. हृदय से निकले शब्द -
    साधुवाद-

    ReplyDelete
  2. तन्हाई ओढ़े!
    सुलगते जो ख़्वाब,
    सभी हो जाते
    ख़ामोश, धुआँ-धुआँ
    भीगता वो आँगन!------

    वाह !!!
    बहुत सुंदर रचना
    बधाई ------

    आग्रह है--
    आशाओं की डिभरी ----------

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर......
    अनु

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  5. सुलगते ख्वाबों की दिखती धुआं
    दिल की ये ज्वाला है,
    तन्हाई ओढ़े आज आया ये कैसा
    उदासी का उजाला है ???
    शुभकामनायें! खुश रहें!

    ReplyDelete
  6. अरमान जलते हैं जब ... उदासी छाने लगती है ...

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सशक्त अभिव्यक्ति.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. आँसू में डूबे
    अरमान जलते
    और फैलता
    उदासी का उजाला
    तन्हाई ओढ़े!
    ....वाह! बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  9. HEART TOUCHING LINES WITH GREAT EMOTIONS

    ReplyDelete
  10. सराहना तथा प्रोत्साहन के लिए आप सभी का दिल आभार...

    ~सादर

    ReplyDelete
  11. भीगता वो आँगन!......बूँद-बूँद में कितनी ताकत है और कितना सौंदर्य है .....ये आपकी कलम से पता चलता है....

    ReplyDelete
  12. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    ReplyDelete
  13. सुलगते जो ख़्वाब,
    सभी हो जाते
    ख़ामोश, धुआँ-धुआँ
    भीगता वो आँगन!
    भावमय करते शब्‍दों का संगम ... यह अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  14. bahut khuubsurat bhaavabhivykti.

    ReplyDelete
  15. बहुत भावपूर्ण रचना ...बधाई !!

    ReplyDelete
  16. मन घुटता है
    धुंआ उठता है
    शब्द पिघल कर
    बह जाते हैं ।

    ReplyDelete