Saturday, 29 December 2012

**~और नहीं... बस ! और नहीं.....~**


दामिनी चली गयी ! एक अजीब सा गूँजता हुआ सन्नाटा छोड़ गयी...! दिल कितना दुखी है... ये किसी को बताने की ज़रूरत नहीं...! उसकी हिम्मत और बहादुरी को मेरा शत-शत नमन ! ईश्वर उसकी आत्मा को शांति प्रदान करे व उसके माता-पिता व प्रियजनों को ये असीम दुख सहने की शक्ति दे !
   आज न कुछ कहने की ज़रूरत है... न सुनने की ! बस.. एक इंसान और  नारी होने के नाते कई दिनों से एक बग़ावत उठ रही है मन में...~ और नहीं... बस ! और नहीं.....



" हर फ़ैसले पर मेरे... मोहर की थी ताक़ीद...
जीने की आरज़ू थी... क़लम तोड़ वो गया........."

16 comments:

  1. अच्छी रचना..
    दामिनी का बलिदान व्यर्थ नहीं जाने वाला

    ReplyDelete
  2. शानदार अभिव्यक्ति,
    जारी रहिये,
    बधाई।

    ReplyDelete
  3. " हर फ़ैसले पर मेरे... मोहर की थी ताक़ीद...
    जीने की आरज़ू थी... क़लम तोड़ वो गया........."

    मुकम्मल बातें दिल के करीब जो कुछ हुआ उसकी पुनरावृत्ति न हो . इश्वर राह दिखाएँ

    ReplyDelete
  4. कुछ ज़ख्म भरते नहीं...
    भरने भी नहीं चाहिये......
    :-(

    अनु

    ReplyDelete
  5. सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    ReplyDelete
  6. बलिदान जाया ना जाय बस यही कामना करती हूँ.

    ReplyDelete
  7. प्रासंगिक तंज लिए धार दार प्रस्तुति .




    नव वर्ष शुभ हो चौतरफा .

    ReplyDelete
  8. xpand
    35m Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.in/ रविवार, 30 दिसम्बर 2012 फैसला निर्भया की मौत से पहले और बाद का
    Expand

    ReplyDelete
  9. Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    चांद को भी मात दे देगी उसकी चमक! comets चांद को भी मात दे देगी उसकी चमक! http://sb.samwaad.com/2012/12/blog-post_29.html … वीरेंद्र कुमार शर्मा की रपट
    Expand Reply Delete Favorite

    ReplyDelete
  10. Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    चांद को भी मात दे देगी उसकी चमक! comets चांद को भी मात दे देगी उसकी चमक! http://sb.samwaad.com/2012/12/blog-post_29.html … वीरेंद्र कुमार शर्मा की रपट
    Expand Reply Delete Favorite

    ReplyDelete
  11. नूतन वर्षाभिनंदन मंगलकामनाओं के साथ.

    ReplyDelete
  12. इस मार्मिक घटना ने सभी का झकझोर दीया हैं। मार्मिक वर्णन

    ReplyDelete
  13. वाकई अब बस अब और नहीं .... विनम्र श्रद्धांजलि...

    ReplyDelete
  14. मर्मान्तक पीड़ा है इन शब्दों में जो अंतस को झकझोड़ देती

    ReplyDelete
  15. :(
    जख्म सूखने न पायें |
    विनम्र श्रद्धांजलि |

    सादर

    ReplyDelete