Wednesday, 18 July 2012

* मेरी क़लम *


अकड़ जाती है जब भी मेरी क़लम..बैठे बैठे,
चल पड़ती है वो सैर को, यूँ ही मेरे..अंतस को टटोलने..!
देखती है झाँककर मेरी आँखों में...
पाती है कुछ ख्वाब...उनीन्दे से..!
बैठती कुछ पल उनके साथ...
छूकर उन्हें जगाती, उनके संग मुस्काती !
फिर पहुँचती..दिल के भीतर...
पाकर कुछ महके हुए एहसास...
खिल उठती वो भी  उनके साथ !
सिर झुकाए, रूठे रूठे , अकड़े हुए से...
जब देखती.. कुछ उलझे हुए जज़्बात..
सहलाती उनको...पूछती उनसे उनका हाल...
मगर पाती उन्हें बेज़ुबान..!
बदहवास से, इधर उधर टहलते वो जज़्बात ...
देख कलम को, हो उठते... कुछ बोलने को बेक़रार...
लगते पीटने... ज़हन का दरवाज़ा..!
क़लम भी उनके संग जुट जाती...ज़हन की सांकल खटखटाती...!
मौका पाकर ....सबकी नज़र बचाकर ..., वो फिर.
घुस जाती झिरी से ज़हन के भीतर!
हाल देख ज़हन का मगर ..ठिठक ही जाती मेरी क़लम !
वो उलझा बेचारा दुनियादारी में...किसकी सुने, किसकी कहे?
फँसा शब्दों के जाल में...हुआ शब्दों से ही लाचार !
बैठा कोने में नज़रें चुराए, बोल उठता कलम से ज़हन....
"क्या दूँ मैं तुम्हें ? नहीं बचा कुछ मेरे पास!
थक गया मैं... पिस कर बीच में...ख्वाबों और ख़यालों के..!"
थाम हाथ ज़हन का , बोलती मुस्कुरा के मेरी कलम  ...
" इस तरह तुम मुझे न बिसरो..!
मैं तुम्हारी गूँज हूँ..., हूँ तुम्हारी ही आवाज़..!
बस! बाँट लो मुझसे..
अपने ख्वाब, अपने एहसास !
अपनी खुशियाँ , अपना अवसाद ..!!!"

23 comments:

  1. बहुत सुन्दर अनीता जी...
    जाने ये कलम न होती तो क्या होता ???

    सुन्दर रचना...
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. सचमुच! अनु जी !
      बहुत बहुत धन्यवाद !:-)

      Delete
  2. कल 20/07/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. शास्त्री सर , आपके कॉमेंट से बहुत प्रोत्साहन मिलता है! बहुत बहुत धन्यवाद ! :-)

      Delete
  4. anita ji ,post par sunder va sarathak comment karane ke liye aabhaar swikare.aapaki kalam sair ko nikalati hai to swasthaya sath lati hai .sadhoowad

    ReplyDelete
  5. Dr. Sahab, ये हमारा सौभाग्य है कि हमें आपकी ज्ञानवर्धक पोस्ट पर Comment करने का मौका मिला !
    आप यहाँ आए....इसके लिए...बहुत बहुत धन्यवाद !:)
    सादर !

    ReplyDelete
  6. कलाम का साथ और मन की बात .... सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद....संगीता स्वरूप जी! :)

      Delete
  7. लिखते समय तो कलम की नोक पर दिल ही ठहर जाता है तभी चल पाती है कलम | सुन्दर संवाद कलम से |

    ReplyDelete
    Replies
    1. अमित श्रीवास्तव जी, बहुत बहुत धन्यवाद !:)
      आपने बहुत सही कहा !
      कलम की नोक पर दिल ठहर जाता है, तभी चलती तो है कलम..
      मगर लड़खड़ा जाती है जब भी...सहारा ज़हन ही देता है..!

      Delete
  8. एहसास, जज्बात और ज़हन की आवाज बस एक ये कलम ही तो है ....
    बहुत ही सुंदर रचना ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. शिवनाथ कुमार जी, बहुत बहुत धन्यवाद!:)

      Delete
  9. चल पड़ती है वो सैर को, यूँ ही मेरे..अंतस को टटोलने..!
    देखती है झाँककर मेरी आँखों में...
    पाती है कुछ ख्वाब...उनीन्दे से..!
    बेहद खूबसूरत भाव भरी रचना ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. hridyanubhuti ji....बहुत बहुत धन्यवाद!:)

      Delete
  10. वाह नीतू मज़ा आ गया ...बहुत सुंदर ...बहुत प्यारी रचना !

    ReplyDelete
  11. बहुत बहुत शुक्रिया भाभी ! :-)

    ReplyDelete
  12. बहुत-बहुत सुन्दर रचना....
    कलम तो दिल का अहसास है...
    जो दिल के सरे जज्बातों को
    बाहर निकालता है...
    सुन्दर;-)

    ReplyDelete
  13. beautiful sharing anita jii..thanks a ton for sharing.

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छी जानकारी.हमेशा की तरह अच्छी पोस्ट की है आपने.

    ReplyDelete
  15. ख़्वाबों और ख्यालों की कश्मकश में जहन की आवाज को कलम से कैद करती सुंदर पेशकश.

    बहुत बधाई अनीता जी इस खूबसूरत प्रस्तुति के लिये.

    ReplyDelete