Friday, 25 November 2016

यादें सीपियाँ ~हाइकु

1
मन-दीपक
भाव-अँजुरी लिये
अर्पण तुझे। 

2
दो नन्हे दीप
बिटिया की आँखों के
देते हौसला।

3
जाड़े की धूप
नर्म -सा एहसास-
बेटियाँ ख़ास।

4
माँ तो लुटाती
आशीर्वाद-पोटली !
आँसू छिपाती।

5
चाँद झाँकता
झील में छिप कर
मुखड़ा देखे ।

6
सर्दी की धूप
छत पर यादों की
किताब खुली।

7
साँझ की गली
सूरज ने छिड़की 
रोली-रंगोली।

8
यादें सीपियाँ
गहराई में पैठीं
खुलें तो मोती।

9
दिल का दर्द
जब दिल में रहे
नासूर बने।

10
टूटे सपने
पलकों पर  सजें
आँखों में चुभें।

~अनिता ललित 

4 comments:

  1. बहुत सुन्दर हाइकु

    ReplyDelete
  2. आपने लिखा....
    मैंने पढ़ा....
    हम चाहते हैं इसे सभ ही पढ़ें....
    इस लिये आप की रचना दिनांक 27/11/2016 को पांच लिंकों का आनंद...
    पर लिंक की गयी है...
    आप भी इस प्रस्तुति में सादर आमंत्रित है।

    ReplyDelete
  3. waah ... madhur haaikoo ... gahra arth liye ...

    ReplyDelete
  4. हार्दिक आभार आप सभी का !!!

    ~सादर

    ReplyDelete